Featured Post

मौहम्मद गौरी का वध किसने किया था??(Did Prithviraj chauhan killed Mohmmad ghauri?)

Did Prithviraj Chauhan killed Mohmmad Ghauri????? मौहम्मद गौरी का वध किसने किया था? सम्राट पृथ्वीराज चौहान ने अथवा खोखर राजपूतो ने??...

Friday, August 28, 2015

राजपूताने का सिरमौर जिला पाली(Rajputs of pali)


----राजस्थान में राजपूतो का सिरमौर जिला पाली (मारवाड़ - गोडवाड़)----

जी हाँ हम पाली जिले को राजस्थान के राजपूतो का सिरमौर कहे तो कोई अतिश्योक्ति नही होगी। हर क्षेत्र में अपने झंडे गाड़े है यहाँ के राजपूत ने राजनीती में,पढाई में ,विदेशो में ,क्राइम रिपोर्ट में,खेल में , इतिहास हो ,स्वंत्रता संग्राम हो।
जिले की सिर्फ 6 % राजपूतो की जनसँख्या वाले राजपूतो ने संख्या कम होने का बहाना बनने वालो का भ्रम भी तोडा है।

यहाँ मीरा,सोमेश्वर और राणा प्रताप आदि ने जन्म लेकर और भी पुण्य कर दिया ।
इसे तो ओम बन्ना की दिव्या छाया ने भी अमर कर दिया।वही चौहानो की कुलदेवी माँ आशापुरा नाडोल भी यही बिराजमान है।


---इतिहास---
=ये वही धरती है जहा राजपूतो के साथ हुए ""गिरी - सुमेल" के युद्ध में शेरशाह सूरी ने कहा था की
 "मैं मुट्ठी भर बाजरे की लिए हिंदुस्तान की सल्लनत खो बैठता"।
= राठौड़ो के मूल पुरुष राव सीहा जी ने मारवाड़ का राज्य पाली के बिट्टू ग्राम से प्रारम्भ किया ।
आज भी उनकी छतरी वह पर है
= वीर पृथ्वी राज चौहान की राजधानी पहले नाडोल थी फिर अजमेर बनी यहाँ से उनके पिता सोमेश्वर ने राज यहाँ से प्रारम्भ किया
= मीरा मेड़तणी का जन्म पाली के गाव कुड़की में हुआ
= राणा प्रताप का जन्म पाली के हुआ यहाँ सोनिगरो में उनका ननिहाल था और राजपूतो में पहला बच्चा ननिहाल में पैदा होता है
=1857 में आउवा के ठाकुर कुशल सिंह जी अजमेर से अँगरेज़ अफसर का सर काट लाये थे और अपने किल्ले के बहार लटकाया था उस दिन आज तक आउवा में मेला लगता है।
=मेवाड़ आने का एक रास्ता देसूरी दर्रे से था वह की रक्षा का भार देसूरी और घाणेराव के सोलंकी /मेड़तियो के भाई बंधो पर था इस सन्दर्भ में हिम्मत मेड़तिया और विक्रम सोलंकी के लिए दोहा प्रसिद्ध है
"दिल्ली कहे सु देसूरी तू जीती में हारी,
बादशाह री पाग हिम्मत बिक्रम उतारी"

---राजनीती---
= सांसद - हरिओम सिंह राठौड़ जिले की दो तहसील राजसमन्द लोकसभा में है वह से राजपूत सांसद है
= एक विधायक ,एक मंत्री - पुष्पेन्द्र सिंह राणावत

(विधानसभा की 6 सीट थी जिसमे से 1 रिजर्व्ड थी 1/5)
= 5 प्रधान(ब्लॉक प्रमुख/प्रखण्ड प्रमुख)-
सुमेर सिंह कुम्पावत,राजेंद्र सिंह देवड़ा,रसाल कँवर,रश्मि सिंह,बाईसा गिरिजा राठौड़ (कुल 10 सीट थी जिसमे से 5 रिजर्व्ड थी 5/5)

= सरपंच 85 (कुल 320 ग्राम पंचायतें जिसमे से सिर्फ 160 सामान्य के लिए बाकि आरक्षित)

=जिले में राजपूत समाज से कुल 25 पंचायत समिति सदस्य है
=वही 3 जिला परिषद सदस्य
= जिला डेयरी अध्यक्ष प्रताप सिंह बिठिया
= जिला पिसीसीबी अध्यक्ष पुष्पेन्द्र सिंह कुड़की
=जिला क्रिकेट एसोसिएसन् अध्यक्ष भंवर सिंह मांडली है

--आबादी और घनत्व---
= पुरे जिले में सिर्फ 6% के करीब राजपूत है लेकिन देश के दूसरे राज्यों के विपरीत यहाँ के राजपूतों में जबरदस्त एका है।जहाँ राजस्थान के कई हिस्सों जैसे शेखावटी नागौर गंगानगर चुरू आदि में आज कुछ नवसामन्तवादी और नवधनाढ्य गधे दबे कुचलों दलितों मेघवाल और ब्राह्मणों बनियो पर जुल्म ढ़ा रहे हैं वहीं पाली जिले में ये आज भी अपनी औक़ात से बाहर नही आते।यहाँ जरा सा सर उठाने पर ही इनका अच्छे से इलाज कर दिया जाता है।
यहाँ के राजपूत आज भी अपनी एकता के दम पर समाज में अपना वर्चस्व बनाए हुए हैं किन्तु कभी दलितों और भले लोगों का उत्पीड़न नही करते वरन् उनका संरक्षण करते हैं।

= राजपूत घरो में 400 घरो से बड़े दो गाव है जहा खिंवान्दी 450 और (रास और बाबरा सयुक्त ) 450 में घर है
= पुरे जिले में 967 में से 160 गाव ऐसे है जहा राजपूत नाम मात्र नही है 0 %(मादा, मोहराइ ,उँदरथल ,बारवा शिवतालाब, गुड़ा पाटिया ,जाटो गुड़ा ठाकुरला, सुथारो का गुड़ा ,प्रतापगढ़आदि)
= सुमेरपुर तहसील में सर्वाधिक 9 % राजपूत और देसूरी तहसील में 3 %
= यहाँ राजपूतो की लगभग हर शाखा के घर है

---राठौड़--- (मेड़तिया,चम्पावत,जोधा,कुम्पावत,जैतावत,उदावत,करनोत,सिंधल आदि ) कछवाहा (शेखावत 1 गाव, राजावत 1 गाव), चौहान (देवड़ा,सोनिगरा,बालेछा,सांचोरा आदि) सिसोदिया (राणावत,शक्तावत 1 गाव, कितावत आदि) सोढा ,भाटी,सोलंकी आदि

---छात्र संघ---
इसी जिले से उदयपुर,जोधपुर के महाविद्यालय के छात्र संघ अध्यक्ष रह चुके है तो जालोर ,सिरोही के कॉलेज प्रेजिडेंट भी यहाँ से रह चुके है
= ज़िला मुख्यालय के बांगड़ कॉलेज का छात्र संघ अध्यक्ष 6 सालो से लगातार राजपूत बनता आ रहा है
=NSUI जिला अध्यक्ष रविन्द्र सिंह जी है
=पाली बांगड़ महाविद्यालय के अध्यक्ष मोती सिंह राठौड़ है
= रामसिया के सूर्यप्रताप सिंह भाटी स्विट्ज़रलैंड के स्विस होटल मैनेजमेंट यूनिवर्सिटी के वर्तमान छात्र अध्यक्ष है
= रामा जी गुड़ा के शौर्यप्रताप सिंह मेड़तिया लंदन के वेस्ट लंदन कॉलेज (होटल मैनेजमेंट), के छात्र संघ अध्यक्ष है
= वही कार्लिफोनिया की यूनिवर्सिटी में भवानी सिंह मेड़तिया राठौड़ प्रेजिडेंट रह चुके है 6 साल पहले


---क्राइम रिपोर्ट (राजपूत हिस्ट्री शीटर्स)---
सभी क्षेत्रो के साथ यहाँ के राजपूतो को पुलिस ग्राफ भी उतना ही ऊपर है
= राजस्थान पुलिस से लिए गए रिकॉर्डो के आधार पर यहाँ कुल 324 में से 70 हिस्ट्री शीटर राजपूत है
= पुरे जिले के 70/324 = 21.60% राजपूत हिस्ट्री शीटर्स
= जिला मुख्यालय शहर को छोड़ 67/257 = 26.07% राजपूत हिस्ट्री शीटर्स
= गोडवाड़ अंचल (देसूरी,रानी,बाली,सुमेरपुर) 40/103 = 38.83% राजपूत हिस्ट्री शीटर्स

--प्रशासन--
यहाँ से अच्छी खासी तादाद में गवर्मेंट कर्मचारी है

= पिछले सालो में मालारी से अविनाश चम्पावत ने IAS में पुरे भारत में दूसरा स्थान प्रात किया था और हाल ही प्रीतम सिंह जैतावत Flying Officer बने ,गुड़ा केसर सिंह के दलपत सिंह जी,सादड़ी के लाजपाल सिंह जी,मालारी के संजय सिंह और केरली के बन्ना का RAS में चयन हुआ ,हमारे प्रधान मंत्री के प्राइवेट पायलट श्री सेला ठिकाने के अजय सिंह चौहान है आदि यहाँ कप्तान ,ब्रिगेडियर,गवर्र्मेंट ऑफिसर्स अच्छी तादाद में है

--एनआरआई --
कुछ गाव जहा से यहाँ के राजपूत युवा विदेशों में है

मालारी, रामासिया, मामावास,रामा जी गुड़ा, केरापुरा, खिवान्दी, पोमावा, घाणेराव,पदमपुरा, सिन्दरली, रोहट, निप्पल, जूना ,छोड़ा, देवतरा, देवली, राजपुरा,कॉलीवाड़ा,गलथनी,बांकली आदि


---अन्य---


= अभी 2 माह पहले यहाँ के महेचा भाइयो ने अपनी 80 लाख कि जमीन राजपूत भवन की लिए दान की।

= राजस्थान के सबसे युवा सरपंच पाली के सादडा ठिकाने की बाईसा सरपंच उर्फ़ बिंदु बाईसा है (21 साल 2 माह )

= वर्तमान 7 पोलो प्लेयर पाली जिले से तालुक रखते है

= इंडिया के रेस कोर्स में 10 से ज्यादा जॉकी पाली से है (खांडी,केरापुरा,खिवान्दी आदि )

= भारतीय जॉकी एसोसीएसन के अध्यक्ष पाली के केरापुरा के प्रदीप सिंह चौहान है

= भारत के पोलो टीम के पूर्व कप्तान और वर्तमान कोच कोटड़ी ठिकाने के लोकेन्द्र मेड़तिया है

= सादडा लाटाडा के सरपंच ज्योति सोनगरा गोल्ड मेडलिस्ट है

= गुड़ा राम सिंह के सरपंच बाईसा कुसुम राठौड़ नेशनल क्रिकेट खेल चुके है और गार्गी अवार्ड से सम्मानित है

= सोजत प्रधान बाईसा गिरजा राठौड़ कमर्स में गोल्ड मेडलिस्ट है

= पाली के युवा सितारे और अध्यक्ष यशपाल सिंह राष्ट्रीय स्तर पर टेनिस खेल चुके है

= राजवीर सिंह राठौड़ राजस्थान के फुटबॉल प्लेयर है इशी जिले से है

= यहाँ के हनुमान सिंह और शैतान सिंह राष्ट्रीय स्तर पर बास्केटबॉल खेल चुके है

= हाल ही में हर्षवर्धन सिंह कुड़की को सयुक्त रास्त्र की तरफ से अंतराष्ट्रीय स्कॉलर शिप मिली है

= पाली की प्रिया कँवर राठौड़ ने थाईलैंड में यु एन प्रतियोगिता जीती

=पाली के केलवाद के बाईसा उर्वसी राठौड़ राजस्थान मोस्ट टैलेंटेड अवार्ड से सम्मानित

=हाल ही में हुयी रायफल प्रतियोगिता में कुल 5 स्वर्ण पदको में से 4 पाली के राजपूतो के खाते में

=यहाँ के प्रियवर्त सिंह राठौड़ का कैनेडी अन्तरिक्ष और वेमानिकी कार्यशाला (नासा) अमेरीका में चयन हुआ


=1965 ने पाकिस्तान के 13 टैंक नष्ठ कर लाहौर बाकरी पुलिस थाने पर तिरंगा लहराने वाले ब्रिगेडियर हरी सिंह जी देवड़ा इसी जिले के थे

=गलथनी और भैसाना मालारी जैसे गावो से सैकड़ो राजपूत हर क्षेत्र में अपनी सेवाएं दे रहे है यहाँ से Brigder lt. colonel  IAS RAS Captain colonel Doctor आदि है

=जिले में कुल 10 छोटे बड़े राजपूत हॉस्टल है

=राजमाता कन्या छात्रावास फौर्ट देसूरी,पाली में नि शुल्क प्रवेश राजपूत लड़की जिसके माता पिता नहीं है या माता या पिता में से कोई एक नहीं है कोई हो तो क्रपया इस नंबर पर कोल कर 9001375003

= यहाँ जब तक भंवर सिंह मण्डली ,जयेंद्र सिंह गलथनी,नारायण सिंह अकड़ावास जैसे समाजसेवी है तभी तक यहाँ की राजपूती को कुछ नही हो सकता।
जय राजपूताना


Source---http://rajputanasoch-kshatriyaitihas.blogspot.in/2015/08/rajputs-of-pali_28.html?m=1

Sunday, August 23, 2015

जाडेजा राजपूतों द्वारा लड़ा गया मिठोई का प्रसिद्ध युद्ध(JADEJA RAJPUTS AND THE GREAT BATTLE OF MITHOI )


                       JADEJA RAJPUTS AND THE GREAT BATTLE OF MITHOI


जय श्री कृष्ण----------------
मित्रों पिछली पोस्ट में हमने चन्द्रवंश की यदुबंशी शाखा "जाडेजा राजपूतों"
की उत्पत्ति और उनके द्वारा स्थापित राज्यों का विवरण दिया था,अब हम आपको जडेजा राजपूतों की वीरता के परिचायक महान युद्धों की जानकारी देंगे,इसी क्रम में आज आपको मिठोई के प्रसिद्ध युद्ध की जानकारी देंगे जिसमे जडेजा राजपूतों ने अपने से कई गुना बड़ी शत्रुओं की सयुंक्त सेना को शिकस्त दी थी......
=========================================

जाम रावल जी और मिठोई का युद्ध =============

चंद्रवंशी जाडेजा राजवंश में जाम रावल नाम के महान अजेय शासक हुए,जिन्होंने अपने जीवन काल में कभी एक युद्ध भी नही हारा और पूरे सौराष्ट्र के राजाओ को हरा कर नवानगर राज्य स्थापित किया।नवानगर

राज्य की राजधानी जिससे आज जामनगर कहा जाता है, जाम रावल ने इस शहर की स्थापना विक्रमी सम्वत 1596 में श्रावण मॉस के 7 वे दिन की।

विक्रमी संवत 1606 में जाम रावल ने अपने जीवन काल का सबसे बड़ा युद्ध लड़ा जिससे मिठोई का महान युद्ध भी कहा जाता है। इस युद्ध में जाम रावल के विरुद्ध समस्त सौराष्ट्र एवं गुजरात की सेनाए लड़ी थी। जिसमे

वाला जेठवा वढेर चौहान परमार झाला वाघेला गोहिल काठी जूनागढ़ के मुस्लिम सुल्तान अपने अपने सैन्य के साथ जुड़े और मिठोई तक आकर पड़ाव डाला. अहमदाबाद के सुल्तान के द्वारा मदद के लिए140 तोप भेजने के बावजूद भी जाम रावल की सेना ने अपने तलवारों की मदद से इस युद्ध में बहादुरी से जीत हासिल की।यह युद्ध योद्धाओं के शौर्ये और बन्दूको पर तलवारो के भारी हुनर की जीत के लिए भी जाना जाता है एवं क्षत्रियों के गौरव और बहादुरी का प्रतीक है

इधर जाम रावल ने भी रिश्तेदारों भायतो को बुलाकर युद्ध की तैयारी करवाई. ध्रोल से उनके लघुबंधु ठाकोर श्री हर्ध्रोल जी भी अपनी सेना के साथ आ गये और योद्धा भी जुड़े रथ को तैयार कर माँ आशापुरा का और पितामह कृष्ण का स्मरण कर सबने सत्रु के सामने कूच 
किया,दुश्मन की तोपों और भारी फ़ौज का मुकाबला करने के लिए जाम रावल ने युद्ध से पहले सलाहकारों के साथ विचार विमर्श किया।अपने सारे सामंतों को बुलाकर सलाह मशवरा किया ,वजीर नोंघंन ने सलाह दी के 3 हिस्सों में फौज को बाटकर एक को बीच मे और दो को दाये और बाये की और रखते हे जैसे ही शत्रु तोप चलाये बिचवाली टुकड़ी लेट जाये और तोप चल जाने के बाद पीछे हटना पीछे है जानकार वो दुबारा तोप नहीं भरेंगे और हम फायदा उठाकर हमला कर देंगे ' जाम श्री रावल जी सुनकर कहते हे की --

हु रावल जो हटु,सती तजदे पियसाधी||
होवते कलह रावल हटु,माने किम् संसार मन||
अब जीवन मरण प्रम उपरा, देवा क्रम अश्वमेघ दन||१||
अर्थात अगर मेरु पर्वत चड़ै और पृथ्वी पर सूर्य प्रकाश न दे,योगेश्वर जो योगभ्रष्ट होकर समाधी तोड़े,माँ पार्वती शंकर का साथ छोड़े तो में रावल जाम युद्ध में पीछे हटूं और फिर मै संसार में कैसे जियूं? जीवन और मृत्यु
ईश्वर के अधीन है, हम सामने जाकर अश्वमेघ यज्ञ का फल प्राप्त करेंगे.......

बहुत सोचने के बादयह परामर्श निकला गया के युद्ध तभी जीता जा सकता है जब दुश्मन की तोपों को निष्क्रिय किया जा सके। तोपों को निष्क्रिय करने के लिए तोपों में एक निश्चित जगह खूंट घुसाने के विधि सुझाई गयी जिससे तोपें चल ही ना पाए। इस कार्य को करने के लिए एक विशाल राजपूतों की सभा बुलाई गयी, इस प्रकार की सभा को उन दिनों बीड़ू कहा जाता था। बीड़ू का एक नियम था यदि सभा में मौजूद कोई क्षत्रिये बीड़ू में राखी गयी चुनौती को नहीं कबूलता तो उस दिन की सभा में एक ब्राह्मण की बलि दी जाएगी जिसकी ब्रह्मा हत्या का पाप सभा में मजूद सभी क्षत्रियो को लगेगा। 

बलि से पहले बीड़ू के फरमान को ४ बार पढ़ा गया। पहले तीन बार में किसी ने तोपों में खूंट गाड़ने की चुनौती नहीं कबूली पर चौथी बारी में तोगा जी सोढा नाम के बहादुर राजपूत ने अन्य तीन जडेजा राजपूतो के साथ चुनौती को स्वीकारा।

तोप नष्ट करने की जिम्मेवारी लिए तोगा और 3 वीर जडेजा कुमार के साथ अनजान मुसाफिर खानपान की तलास में आये ऐसा जताकर दुश्मन के खेमे में घुस गए और एक एक कर तमाम तोपचियों को मार कर सभी एक १४० तोपों को निष्क्रिय कर आए।तोगा जी सोढा अपने समय के एक महान योद्धा थे और ऐसे कई योद्धा जाम रावल के सैन्यरत्न थे।

जब दुश्मन को पता चला के केवल ४ योद्धा आ सभी तोपों व असलाह को निष्क्रिय कर गए तो संयुक्त सेना के खेमे में हड़कम्प मच गया।केवल चार योद्धाओ की इतनी बड़ी बहादुरी देख दुशमन सेना में बेचैनी व हार के अंदेशे
का डर भर गया जब उन्होंने ने सोचा के ऐसे 150000 सैनिक अभी और है जिनका उन्हें सामना करना पड़ेगा। परिणाम स्वरुप दुश्मन ने भी बीड़ू का आयोजन किया और उसमे जाम रावल के कटे सर को लाने की चुनौती सभी क्षत्रियों के सामने रखी गयी। इस कार्य की जिम्मेवारी करसनजी झाला नामक क्षत्रिये ने ली।

करसन जी झाला भी सफ़ेद ध्वज उठाये दुश्मन के खेमे की और बढ़ चला। सफ़ेद ध्वज का अर्थ आत्मसमर्पण से होता है इसलिए करसन जी को सेना के भीतरी खेमों में आने की इजाजत मिली।करसन जी ने सेना के सामने
आत्मसमर्पण की शर्त राखी के वे केवल जाम रावल जी के सामने झुकेंगे और सन्देश पढ़ेंगे। उस सेना में मजूद हरदौल जी जो की जाम रावल के छोटे भाई थे और नवानगर के सेनापति भी थे करसन की मंशाओं को भाप गए और खुद करसन के आगे जाम रावल के रूप में खड़े हो गए। करसन ने हरदौल जी को जाम रावल समझ तुरंत उनकी गर्दन पर खंजर से हमला कर दिया जिसमे वे घायल हो गए और अंत में वीरगति को प्राप्त हुए।इस घटना के बारे में सुन जाम नरेश जी इतने क्रोधित हो उठे के उन्होंने तुरंत कारसन का सर धड़ से अलग करने के निर्देश दिए। परन्तु कारसेन जी मोके का फायदा उठा कर अपने घोड़े पर बहुत तेजी से जडेजाओ के खेमे से दूर भाग चले। 

रास्ते में एक सोलह साल का लड़का जिसका नाम मेरमणजी हाला ( जाडेजाओ की शाख ) था, अपनी पट्टी नामक घोड़ी को सिंहं नदी के किनारे नहला रहा था। उसने अचानक एक आदमी को घोड़े पर अपनी और भागते देखा जिसके पीछे काफी सैनिक लगे हुए थे। मेरमण तुरंत परिस्तिथि को समझ गया और कारसेन के पीछे लग गया। दुश्मन के खेमे और कारसेन की स्तिथ में अभी भी काफी अंतर था। मेरमण जी ने कारसेन जी का बड़ी बहादुरी से पीछा किया के तभी एक 50 फुट चोर नाला दोनों के बीच आ गया। मेरमण जी ने नाले की चौड़ाई को देखते हुए अपनी घोड़ी पट्टी से कहा आज जडेजा वंश की हाला शाख की इज्जत तुम्हारे हाथों में है। पट्टी पचास फुट चौड़े नाले को बड़ी बहादुरी से दो बार में टॉप गयी और दूसरी और जा खड़ी हुई। मेरमण जी ने तुरंत अपने शरीर को संभाला और पट्टी पर खड़े होकर कारसेन की और पूरी ताकत से भाला फेंका।भाला सीधा कारसेन के दिल को भेद गया और वे वहीँ धराशाई हो गए।मेरमण जी की इस बहादुरी को वह आ कर जाम रावल और हजारो जडेजा सैनिको ने देखा।जाम रावल जी कवि नही थे पर उन्होंने मेरमण की इस बहादुरी को देख कर अपने घोड़े से उतर कर देखा तो मेरमण जी की आँख जोर लगाने की वजह से बहार दिख रही थी और घोड़े के भी मुठ बेठ गए थे ये देख उनके मुह से उसके लिए कुछ अनमोल पंक्तियाँ निकली----
”हाला जी तेरा हाथ बखानू के पट्टी तेरा पागला बखानू ”

जिसका अर्थ है हाला जी मैं किसकी तारीफ करू इस बहादुरी के आपके हाथों की या पट्टी घोड़ी के टांगों की मैं खुद
 ही इतना चकित हूँ।ये पंक्तियाँ आज भी अनेको गुजराती देश भक्ति के गानो में इस्तेमाल की जाती है और 
लाखों लोगों के लिए प्रेरणा की स्त्रोत बनीं। 



वर्षाऋतु में चले इस युद्ध में पानी के साथ लहू भी इतना बहता चला गया अनेक योद्धा अपना कौशल दिखाने 

लगे,शत्रु का 12 हजार सैनिक मारे गए और इधर जाम जी के 4 हजार योद्धा काम आये, इसके बाद जाम रावल की सेना ने युद्ध में भी इसी प्रकार कर कौशल दिखाया और संख्या में बेहद कम होने के बावजूद भी दुश्मन की संयुक्त सेना पर जीत हासिल की।
लड़ाई के बाद सभी शत्रु राजा भाग गये जाम का सैन्य उनका पीछा करने लगा,भागते शत्रु का पीछा करना क्षत्रिय 

धर्म नही है कहकर जाम ने सेना वापिस बुलाई और जेठवा को हालार में से ,काठीओ को भादर नदी के उस पार, 
देदा और झाला को मछु नदी के उस पार खदेड़ा जो आजादी तक चला अपने भाई को खोने के गम में जाम रावलने नया मुल्क जमीन न जीतने की प्रतिज्ञा ली और सभी भायतो को 12-12गाव दिये ,आहीर को मायत्रु गाऊँ दिया और मत्वा लोगो को मत्वा गाव दिया अपने चारण को 2 गाव देकर राज्य स्थिर किया ये युद्ध इतिहास के पन्नो में अमर हो गया पर कई लोक कथाओ में आज भी जीवित है।===========================================
======= Battle of Mithoi ========================

Jam Rawal captured Majority of area Of Saurashtra by defeating all kings
af that area and the great kingdomNawanagarwas established, the
capital city was called Jamnagar, which is still a promonent city of
Saurashtra. Jamnagar was founded by Jam Rawal on 7th day of shrawan
mounth of first quarter of v.s. 1596. The Jam Rawalwas never defeated
in his life in any battle. In v.s.1606, Jam Rawal defeatedcombined forces
of all kings of Saurashtra and Gujrat, even Sultan of Ahmedabad
supported opposition by giving 140 guns, which Jam Rawal did not
possess. Even ThenJam Rawal defeated all in great battle of “Mithoi”, the
site near present day refinery of reliance. In thatBattle the younger brother
of Jam Rawal: Hardholji became Martyr. It was the great battle; “MITHOI
BATTLE”. The combined forcesof all kings of saurashtra and Gujrat with
support of sultan of Ahmedabad, was about 2,50,000 in numbers and
army of Jam Rawal was about 1,50,000. Combined forces had 140 big
guns (Cannons), none in possession of Jam Rawal's army. There was a
meeting of ‘think tank’ of Jam Rawal’s army before battle started, in
which it was decided that we can only win the battle if we can neutralise
the power ofcannons if a particular screw is fitted at specific site of the
cannon, a cannon cannot fire. So a huge meeting of all armymen of Jam
Rawal's army was called, in which a ‘Beedu’ was circulated in which it
was declared "Is there any brave Rajput who can fit a screw in all the 140
big guns of combined enemy forces, That brave Rajput will be
awardedwith 12 villages", according to the principles of ‘beedu’, if
nobody accepts that challenge, then a holi brahmin-man is killed in front
of whole meeting and the ‘great sin’ of brahma-hatya applies to all the
people present in the meeting. The beedu is circulated maximally four
times, even then if no body accepts the challenge, a holy brahmin man is
killed. Nobodytook challenge till three rounds, but on the fourth
circulation, one great brave man TOGAJI SODHA took up the challeng
along with three JADEJA rajputs, and went to opposition camps in name
of strangers, eager to know about the big-guns. With great bravery,
chivalry and skills TOGAJI SODHA and his other three collegues,
rendered all the 140 big guns of enemies totally useless. In later part,
when enemies realised, there was fierce fight between soldiers of
enemies and these brave 4 persons of Army of Jam Rawal. There were
84 wounds in body of TOGAJI SODHA ,when he came back after
successfully completing the task of desarming all the 140 big guns.
TOGAJI SODHA was one of the greatest war hero of that centuryin the
world at that time, Jam Rawals army had quite few of them. There was a
great panic in the camp of combined forces once they realised that only 4
soldiers of Jam Rawal's army destroyed all of our guns, then what will
happen if all 1,50,000 soldiers come to fight us. Asa last resort, a huge
meeting ofall 2,50,000 soldiers of combined forceswas called and acting
in same way as Jam Rawal’s strategy, they also circulated a ‘beedu’, that
'Is there any brave person in our clan who canbring the severed head of
Jam Rawal?' A soldier named Karsanji took up the challenge. Karsanji
went by putting a white flag on his ‘bhalo’ (spear). A white cloth
suggests that ‘we want to surrender!’, so he was allowed to go to
deepest part of army camp of Jam Rawal. Karsanji insisted that he will
personally hand over the message to Jam Rawal only, not to anyone else.
HARDHOLJI, younger brother of Jam Rawal, and also commander of Jam
Rawal’s army, told Karsanji that he was Jam Rawal, give me ur message.
Karsanji thoght he was Jam Rawal, and immediately took his spear and
stuck a blow on Hardholji and he was severely hurt and later died and
became martyr. Jam Rawal was very furious and ordered to kill Karsanji,
but by that time Karsanji ran very very fast on his horse and went out of
army camp. There was a young boy of 16 years name Meramanji Hala (a
sub-branch of jadejarajputs) was busy bathing his horse in river
‘SINHAN’, name of his horse was “Patti”, a female horse. He heard the
noise and saw a person running away and hundreds of people shouting
and running after him. He soon realised and immediately took his horse
and ran after enemy soldier Karsanji. There was a great race and still
some good distance was there between him and enemy. In between
came river-pit some 50 feet wide, MERAMANJI asked his horse ‘patti’,
that ‘this is the time of test of bravery for Hala clan of Jadeja,and it is in
ur hand’. Patti jumped 50 feet river-pit and Meramanji Hala jadeja stood
up on horse and threw his spear on Karsanji. The spear of Karsanji
pierced through Karsanji's heart, his horse and wentdeep into the soil.
This was the force of one of the greatest warroirs of the century
Meramanji Hala Jadeja. Then thousands of soldiers and Jam Rawal
came and saw the bravery, chivalry of Meramanji. Jam Rawal was never
a poet, but after seeing this great bravery, there were spontaneous words
from mouth of Jam Rawal ”HALAJI TARA HATH VAKHANU KE PATTI
TARA PAGALA VAKHANU” (What to praise? Whether I should praise the
hands of Meramanji Halaji or the legs of Patti horse! I am confused), and
these words became the words of great bravery song of Gujrati
Language, inspiring lacs and crores of people since centuries to fight for
the Nation.

सन्दर्भ--
1-यदुवंश प्रकाश
2-सौराष्ट्र का इतिहास 
3-http://rajputanasoch-kshatriyaitihas.blogspot.in/2015/08/jadeja-rajputs-and-great-battle-of.html

ठाकुर बलवन्त सिंह बखासर(1971 के भारत पाक युद्ध के हीरो)


चौहान बलवंत सिँह बाखासर(chauhan balvant singh bakhasar)
(कहानी एक सच्चे देश प्रेमी धर्मपरायण जिंदा शेर दिल राजपूत की )

भारत की आजादी के बाद 60 70वे दशक मे पश्चिमी राजस्थान के लिए एक जाना पहचाना नाम था बलवँत सिँह बाखासर!

गुजरात राजस्थान के सरकारी महकमे और पुलिस विभाग के लिए डकैत लेकिन बाडमेर साँचोर ओर उत्तरी गुजरात के वाव थराद सीमावर्ती गाँवो के लिए वे आधुनिक राबिन हुड समान थे
बलवंत सिंह का जन्म राजस्थान के  बाड़मेर जिला के गांव बाखासर में चौहानो की नाडोला उप शाखा में हुआ आपकी शादी कच्छ गुजरात के विजेपासर गाव में जडेजा राजपूतो के यहाँ हुयी आपका बचपन राजस्थान गुजरात और पाकिस्तान के सीमावर्ती क्षेत्रो में गुजरा ये पूरी तरह यहाँ के सीमावर्ती क्षेत्रो को लेकर वाकिफ थे वक़्त के साथ बलवंत सिंह ने हथियार उठा दिए

आजादी के बाद पाकिस्तान के सिँधी मुस्लिमो का सीमावर्ती क्षेत्रो मे आतँक था उस वक़्त बॉर्डर खुला होने की वजह से सिँधी मुस्लिम आये दिन भारतीय सीमा में आकर लूट पाठ करने लगे इधर बलवंत सिंह बाखासर सरकारी खजाना व लुटेरो को लूट कर सारा धन गरीबो में बाँट देते थे ग्रामीणों की हर सम्भव मदद करते सरकारी महकमा इनके नाम तक से डरता था पुरे क्षेत्र के लोग जी जान देने को तैयार रहते और ये पुरे 100 किमी क्षेत्र के आधुनिक रोबिंन हुड बन चुके थे पाकिस्तान से आने वाले लूटेरे भी इनसे नाम से थर्राने लगते थे जिस गाव में ये रात गुजरते वहा का सारा प्रबन्ध ग्रामीण करते धीरे धीरे बलवंत सिंह बाखासर का नाम बढ़ता गया

बलवँत सिँह देश में पहली बार चर्चा मे तब आए जब मीठी के सिन्धी मुसलमाँन एक साथ 100 गायो लेकर पाकिस्तान जा रहे थे जैसे ही इसकी खबर बलवंत सिंह जी को मिली फिर क्या था उसी क्षण अपने घोड़े पर सवार होकर बलँवत सिँह डाकुओ का पीछा करने निकले अकेले मुकाबला करते हुए 8 सिँधीयो को ढेर कर दिया ओर सभी गाय छुडवा लाए

बाड़मेर के चौहटन के अब्दुल हादी जो 7 बाद विधायक मंत्री रहे उनके बड़े भाई मोहम्मद हुसैन पर तस्करी लूट के संगीन आरोप लगे इन्हें भी बलवंत सिंह ने मार गिराया वही मोहम्मद हयात खान नाम के लूटेरे को भी बाड़मेर में लंबी नींद सुलाया
अब्दुल हादी से इनका मन मुटाव हो गया था तब कांग्रेस सरकार आते थे अब्दुल हादी और नाथूराम मिर्धा दोनों ने मिलकर इनको पकड़वाने की नाकाम साजिश रची

1971 भारत पाक के रिश्ते बेहद तनावपूर्ण थे 71 युद्ध मे ईनकी अहम भूमिका रही सैनिको में ज्यादातर बाहरी थे और रेगिस्तान के खतरों से अनजान बलवंत सिंह  पाक सीमा से अच्छी तरह वाकिफ थे और काफी लोकप्रिय हो गए थे उस वक़्त लेफ्टिनेँट महाराजा भवानी सिँह जयपुर ने इनको सेना की एक बटालियन और 4 जोन्गा जीपे तक सौँप दी थी पूरी बटालियन की अगुवाई इन्ही बलवंत सिंह बाखासर ने की और अपने धैर्य और सूझबुझ से भारतीय सेना को पाक के भीतर तक ले गए और नतिजा रहा की सुबह के 3 बजे पाकिस्तान के सिंध सूबे के छाछरो कस्बे पर कब्जा करने मे सफलता मिली और पाकिस्थान के 100 गावो पर कब्ज़ा हुआ सारे ठाणे भारतीय सेना के कब्जे में आ गए
भारतिय सैनिको को तब बड़ा ताज्जुब हुआ जब पाकिस्तान ग्रामीण आंचल के लोग सिर्फ बलवंत सिंह बाखासर को देखने के लिए कई किलोमीटर दूर से पैदल आये

↘🇮🇳इनकी देशभक्ति ओर वीरता से प्रभावित प्रसन्न होकर भारत सरकार ने इन पर लगाए सारे डकेती के केस वापस ले लिए थे

👉अभी इनके पुत्र रतन सिंह जी बाखासर अहमदाबाद में रह रहे है

 👉इसकी लोकप्रियता का अंदाजा डिंगल भाषा में इन पर गीत तक लिखे गए है

👉सांचोर में लगने वाले मेले को भय मुक्त बनाने के लिए ये अपने ऊठ पर बैठ खुद निगरानी भी करते थे

👉राजस्थान ,गुजरात,कच्छ और रण क्षेत्र इनकी वीरता के वीर रस भजन आज तक गाए जाते है

↘Thakur Balwant Singh Bakhasar was the feudal of Bakhasar in Barmer district who turned a dacoit later allegedly for his honour. The areas of his operation and influence were bordering areas of Barmer district, Sanchore in Rajasthan, Vav, Tharad in Gujarat and areas of Sindh in Pakistan. He was a Rajput from the Chauhan clan.

In the 1971 war with Pakistan Balwant Singh Bakhasar, with his close associates helped and guided the Commandos of Indian Army to capture various parts of Sindh. The elite Indian Para Commandos under the command of Lt.Col.His Highness Sawai Bhawani Singh of Jaipur attacked Chachro town in Pakistan at about 3 AM on 7 December 1971. The force was divided in two groups mounted on 4wd Jonga Jeeps with MMGs and loaded with supplies. The Indian Commandos captured Chachro by day light taking 17 prisoners. Later, they attacked Virawah and captured it after dealing with the LMG position. After success in capturing the towns, the groups ex filtrated to India via Bakhasar where they were fired upon by BSF post however the confusion was later sorted out.

🚩🚩Note - आप सभी को बता देते है 1971 में पाकिस्तान से हुयी जंग में राजस्थान पाकिस्तान बॉर्डर के काफी राजपूत सक्रिए हुए थे और हर घर में बंदूको कि सफाई शुरू कर दी गयी थी और सेना को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से सहयता कि थी … राजस्थान का बॉर्डर राजपूत बाहुल्य है और राजपूत किसी भी संदिग्ध गतिविधि होते है जल्दी अलर्ट हो जाते है और सेना को सारी जानकारी मिल जाती है पाकिस्तान से लगती सीमा से 3 राजपूत विधायक है जिसमे में से 2 RSS से है जैसलमेर विधायक छोटू सिंह जी भाटी, पोखरण विधायक शैतान सिंह जी व शिव विधायक मेजर मानवेन्द्र सिंह जी

🚩🚩इस राजपूत बाहुल्य सीमा पर कभी दंगे घुसपैठ की खबरे नही मिलती जबकि सबसे ज्यादा पाकिस्तान का बॉर्डर लगभग 700 किमी यही राजस्थान से लगता है

®Rajputana Soch राजपुताना सोच और क्षत्रिय इतिहास©
सन्दर्भ---http://rajputanasoch-kshatriyaitihas.blogspot.in/2015/08/1971.html

यदुवंशी जाडेजा राजपूतों का इतिहास (HISTORY OF JADEJA RAJPUTS)

यदुवंशी जाडेजा राजपूतों का इतिहास (HISTORY OF JADEJA RAJPUTS)
                       Rajputana Soch राजपूताना सोच और क्षत्रिय इतिहास

चंद्रवंशी(यदुवंशी) जाडेजा राजवंश का इतिहास==========


===========जाडेजा दरबार (राजपूतों) क्षत्रियों का इतिहास==================
जाडेजा राजवंश गुजरात के कच्छ व सौराष्ट्र के इलाके में राज करने वाला एक झुझारू राजवंश है।जाडेजा राजवंश की उत्पत्ति चंद्रवंशी क्षत्रिय वंश से हैं व इनकी उत्पत्ति यदुकुल से मानी जाती है। जाडेजा चुडासमा भाटी जादौन चारो कुल यदुवंश की अलग अलग शाखाये है जो भिन्न भिन्न समय पर यदुवंश से निकली है। जाडेजा वंश गुजरात का सबसे बड़ा राजपूत वंश माना जाता है। जाडेजा राजपूतों के सौराष्ट्र में लगभग 700 गाँव बेस हुए है और लगभग २३०० गाँवो पर आजादी के समय इनका शासन रहा है।गुजरात में ऐसी मान्यता है के जिन गांवों में ठाकुर जी श्री कृष्ण का मंदिर नहीं है वहां लोग सुबह उठकर किसी जाडेजा के पाँव छूकर आशीर्वाद प्राप्त कर सकते है।गुजरात हाई कोर्ट भी जाडेजाओ की कृष्णा जी के वंशज होने की बात प्रमाणित करता है कुछ समय पहले हुए एक केस में कोर्ट ने जाम नरेश को प्रद्युम्न जी का वारिस मानते हुए संपत्ति पर हक़ का अधिकार दिया।
========कुल गोत्र इत्यादि========
1-गोत्र---अत्री
2-वंश---चन्द्रवंश(यदुवंश)
3-वेद---सामवेद
4-मूल पुरुष--आदिनारायण,
5--कुलदेवता---श्रीकृष्ण जी,सोमनाथ जी
6-कुलदेवी---अम्बाजी,महामाया(momai),आशापुरा
7-झंडा--केसरी
8-नदी--कालिन्दी
9-घोडा---श्यामकर्ण
10--गुरु--दुर्वासा
11-नगाड़ा--अजीत
12--शंख--अजय
13--तलवार:- ताती( अंबिका शक्ति, जिसका माप ५० उंगलि)
14--ढाल:- माहेश्वरी
15--शस्त्र:-शांग(भाला) ओर् तलवार जिसका माप ५२ उनगलि
16--प्रथम जाम--जाम श्री उन्नडजी
प्रथम जाडेजा---लाखाजी जाडेजा 
17--आधुनिक विभूतियाँ--जनरल राजेन्द्र सिंह(पूर्व थल सेनाध्यक्ष),महान क्रिकेटर रणजीत सिंह उर्फ़ रणजी,रविन्द्र जाडेजा,दिलीप सिंह,अजय जाडेजा आदि
==============================================

जाडेजा राजपूतों की वंशावली व संछिप्त इतिहास================

१.राजा चंद्र (त्रेता युग के तीसरे चरण मे प्रथ्वी पर कोई अच्छे राजा ना होने से इन्द्र की सूचना से चन्द्र ने अवतार लिया जिससे चन्द्रवंश चला|

२.बुद्ध ( चन्द्र के ब्रहस्पति कन्या तारा की कोख से जन्म लिया , बुद्ध ने श्राद्धदेव मुनि की बेटी इला से विवाह कर पुरूरवा नामक पराक्रमी पुत्र हुआ) 

३.पुरूरवा(इनकी राजधानी प्रयाग थी इनके गुणगान एक बार नारद ने इन्द्र सभा मे कहे जिसको सुनकर उर्वशी ने प्रथ्वी पर आकर पुरूरवा से शादी की ,जिसके आयु ,सत्यायु ,ऱाय, विजय वगैरा ७ पुत्र हुए) 

४.आयु(नहुस ,क्षत्रावुध ,राजी राम्भ,अनीना नाम के पुत्र हुए )
५.नुहुस(जिसने १०० बार अश्वमेघ यज्ञ किया था)
६. ययाति(६ भाईयो मे सबसे बडे जिसने शुक्राचार्य की बेटी देवयानी जो कि ब्राहम्ण कन्या थी उससे हुई ,देवयानी को श्राप था के वो ब्रहामण नही रहेगी जिसके दो पुत्र हुए यदु और तुरवुश और दूसरी पत्नी शर्मिष्ठा से ३ पुत्र हुए जिसमे एक पुरूरव जिसकी ४१ वी पीढी पर राजा युधिष्टर हुए) 

७. यदु (इन राजा के कुल मे जो राजा हुए वो यदुवंशी कहलाए)
८.क्रोष्ठा
९.वराजीनवन
१०.स्वाही
११.रूसीकू
१२.चित्रार्थ
१३.शशबिन्धू
१४. प्रथूुसवा
१५.धर्म
१६.उशना
१७.रूचक
१८.जयामेघ
१९.विरालभ
२०.कराथ
२१.करून्ती
२२.धरूस्टी
२३.निवरित
२४.दरसाहा
२५.व्योम
२६.जीतूमाक
२७.विरकुट
२८.भीमराथ
२९.नावरथ
३०.दसूरथ
३१.साकून
३२.कुरांभी
३३.देवराता
३४.देवक्षत्रा
३५.मोधू
३६.कुरू
३७.अनु
३८.पुरहोत्रा
३९.अयु
४०.सातवन(इनके ७ पुत्र थे जिसमे वृष्णि गद्दी पर बैठे)
४१.वृष्णि(४ बार प्रथ्वी के सभी राजाओ को हराया, जिन्होने वेद धर्म फैलाया, उनके नाम से कुछ यादव वृश्निक गौत्र के कहलाए)
४२. सुमित्र
४३.शईनी
४४.अनामित्र
४५.वरूशनीक
४६.चित्राराथ
४७.विदूरथ
४८.सुर
४९.भजनाम
५०.शईनी
५१.स्वायंभोज
५२.हरिदिक
५३.देवमिथ

५४.शूरसेन(जिनकी एक बेटी को राजा कुंतीभोज ने पाला जिसका नाम कुंती था .
५५.वसुदेव(१४ रानी जिसमे ७ मथुरा के कंस की बहन )
५६.श्री क्रष्ण
५६.श्री क्रष्ण (भगवान विष्णु के अवतार ,पटरानी मे से सबसे बडे रूकमणी जी उसके पाटवी कवंर प्रद्युमना.
५७.प्रद्युम्न 

५८.अनिरूध(मिश्र के सोनितपुर के राजा बाणासुर की बेटी ओखा का हरण कर शादी की थी उस बाणासुर के श्रीक्रष्ण जी ने दोनो हाथ काट डाले थे )
यादवंशथली मे जम्बुवती के पुत्र साम्ब जो खूबसूरत होने से स्त्री के परिधान पहनकर यादवकुमारो ने दुर्वासा ऋषि के पास ले जाकर प्रश्न किया की' इसको पुत्र होगा क्या?',तप भंग होने से ऋषि ने श्राप दिया के इसके जिसका जन्म होगा वो यादवकुल का नाश करेगा फिर कुछ समय बाद यादव अंदर ही अंदर लडकर मर गए श्रीक्रष्ण ने भी भौतिक शरीर त्यागा , उससे पहले श्रीक्रष्ण ने अपने सारथी दारूक और शखा उद्धवजी को बुलाकर कहा था कि उसके स्वधाम जाने के बाद द्वारिका ७दिन मे डूब जाएगी उनके महल के अलावा ,इसलिए सभी अर्जुन के साथ मेरे परिवार को लेकर इन्द्रप्रस्थ जाए और व्रजनाभ का राज्यभिषेक करे जब अर्जुन के साथ बचे यादवो और क्षत्राणियों को अहीरो ने लूटा.
अनिरूध के पाटवी कवंर व्रजनाभ को इन्द्रप्रस्थ लाकर राज्यभिषेक किया , बाणासुर के अवसान के बाद उसका पुत्र सागीर उम्र मे म्रत्यु होने से सोनितपुर की गद्दी व्रजनाभ को मिली वो सपरिवार वहां जाकर राज्य किया विक्रम संवत पूर्व २२७२ को मिश्र मे राजधानी हुई.



                              मिस्र में यदुवंशी शासन के प्रमाण इन प्राचीन पेंटिंग से मिल जाते हैं 

५९. वज्रनाभ
६०.प्रतिबाहू
६१. शुभ से ११३
११३. लक्ष्यराज (इस राजा से विक्रम संवत शुरू हुआ )
११४.प्रताप जी
११५.गर्वगोड (इजिप्त के शोणितपुर और आसपास के देशो मे राज ३२०० सालो तक राज टिका रहा और रोमन ने जीत लिया, इन्होने गद्दी काबुल मे बनाई इजिप्त छोडा)
११६.भानजी
१३४.देवीसिंह
१३५.सुरसेन जी (यवनो ने काबुल जीत लियाइन्होने वापस यवनो से काबुल जीता और सता सिंध मे लाहौरी तक बढाई
१३६.विक्रमसेन (वापस मिश्र जीत गद्दी वहां लगाई)
१३७.राजा देवेन्द्र (मिश्र मे गद्दी , नबी मुहम्मद ने दुनिया मे इस्लाम फैलाया हमले किये इनकी म्रत्यु के बाद सोनितपुर भी जीत लिया...
=======राजा देवेन्द्र के बाद युवराज=========
* अ्सपत-
(मिश्र की गद्दी पर बैठे उनको जबरदस्ती इस्लाम कबूल करवाया गया,जिसका कुल वाकर के अनुसार उनके वंशज चागडा चगता कहलाए जिसके वंश मे अकबर हुआ --कुछ इतिहासकार दंतकथा कहते है कि माता हिंगलाज ने ४ को छुपा दिया और एक अस्पत को सौंपा , जिसको मुह(जड) मे छुपाया वो जाजडेजा कहलाए ,चुड मे छुपाया वो चुडासमा कहलाए ,भाथी मे छुपाया वो भाटी कहलाए .)
*गजपत.
(विक्रम संवत ७०८ के वैशाख शुद्ध तेज को शनिवार रोहिणी नक्षत्र मे गजनी शहर बसाया और किला बनवाया और अपने बडे भाई नरपत जी को गद्दी पर बैठाया और खुद हिन्द सौराष्ट्र की तरफ मैत्रा मां के भक्त थे इसलिए यहां आ बसे जिनके वंशज रा कहलाए बाद मे चुडासमा सरवैया और रायजादा कहलाए जूनागढ मे इन्होने ७०० साल राज किया)
*भूपत
(गजनी और खुरासन के प्रदेश के बीच भूपत ने राज्य चलाया,बाद मे पंजाब और सिंध मे राज्य किया ,केहूद रावल ने देवराजगढ बंधवाया, देवराज रावल के बाद मे ६ थी पीढी पर जैसल जी हुए उन्होने जैसलमेर मे राजधानी बनवाई )
१३८.जाम नरपत संवत ६८३ से ७०१ (बादशाह फिरोजखान को हराकर अपने पुरखो की गद्दी जीत अफगान मे खुदकी सत्ता जमाई)
१३९.जाम सामत(समा) संवत(७०१-५८)फिरोज खान के शहजादे ने तुर्किस्तान से मुस्लिम राजाओ का सहारा लेकर गजनी पर जीत ली सामत अय्याश थे तो युद्ध की तैयारी ना पाए और थोडे लास्कर लश्कर के साथ लाहौरी मे गद्दी डाली और सिंध मे राज बढाया जिनके वंशज सिंध मे सामा कहलाए)
१४०.जाम जेहो संवत ७५७ से ८३१ (खलीफा उमर से लडाई हुई और जीते )
१४१. जाम नेतो संवत(८३१ से ८५५) खलीफा वालिफ ने सिंध पर हमला कर अपनी सत्ता जमाई , सब राजाओ ने लगान दी ,जाम नेता ने नही दी.
१४२. जाम नोतीयार संवत(८६६-८७०) इरानी बादशाह ममुरासिद चित्तौड से हारकर वापस आ रहा था उनको लूटा और बंदी बनाया)
१४३. जाम गहगिर (ओधर)संवत ८७०-८८१ (रोमन के साथ व्यापार संबंध बढाये )
१४४. जाम ओथो संवत(८८१-८९८ ( कश्मीर के राजा जयपीड की बेटी की शादी अपने बेटे के साथ हुई थी)
१४५. जाम राहु संवत(८९८-९१८) कन्नौज के राजा माहिरभोज और अनंग पिड कश्मीर के साथ रिश्ते बढाए)
१४६. जाम ओढार संवत(९३१-४२) (काबुल,कंधार, पेशावार मे फैले हिन्दू राजाओ को संघठित कर मुस्लिम को रोका था)
१४८. जाम लखियार भड संवत(९४२-९५६) (नगर सैमे बसाया और वहां राजगद्दी बनायी जो हाल नगर ठठा के नाम से पहचाना जाता है
१४९. जाम लाखो धूरारो संवत(९५७-९८६) अपने दोनो पैर से घोडे को झूलाते थे काफी बलवान राजा थे , पतगढ के राजा वीरम चावडा की बेटी से ४ पुत्र हुए मोड वैराया, संध और ओथो और खैरागढ के राजा सूर्य सिंह उफर श्रवण की बेटी चन्द्रकुवंर से उन्नड , जीहो , फुल और मानाई )
जाम उन्नड सिंध की गदी पर आये और मोड़ अपने मामा की गदी पटगढ़ छीन ली और उनके वंश कच्छ में (जिन्होने केराकोट का अजोड़ किल्ला बन्धवाया)चला जिसके वंश में जाम लाखो फुलाणी हुवे जो आज भी पुरे गुजरात में सुप्रशिद्ध हे जो अटकोट में भीमदेव सोलंकी के सामने युद्ध में काम आये इनको पुत्र न होने से उनका भतीजा जाम पुनवरो गद्दी पर आया जिसने पदरगढ़ का कच्छ कला का विशाल किला बनवाया )
१५०• जाम उन्नड सवंत (९८५ -९९१)

(महान दानेस्वरि ,अभी भी किसी राजा को कवी उपमा देते हे तो 'उन्नड के अवतार' के नाम से देते हे)
१५१.जाम समेत उर्फ़ समो सवंत (९९१-१०४१)
(जाम उन्नड के बाद नगर सैम पर जाम समो ने राज किया बादसाह नसरुदीन को हराया और पंजाब की तरफ खदेड़ा)
१५२.जाम काकू सवंत(१०४१-१०६२)
(धर्म परायण राजा थे रामेश्वर की यात्रा ५ बार की और राज्य को मजबूत किया)
१५३ जाम रायघन सवंत(१०६२-१०९२)
(तुर्की वंस में महमद गिजनी हुवा जिसने हिन्द पर १७ बार हमला किया जिसने सोमनाथ मंदिर तोडा और मंदिर का कुछ हिसा मकामदीना में और कुछ अपनी कचहरी में लगवाया मंदिर तोड़ कर लौटते वख्त
रायघन जी ने जलाशयो में जहर डलवाया जिससे उसका काफी सैन्य मरा)
१५४.जाम प्रताप उर्फ पली सवंत(१०९२-१११२)
(पंजाव के राजा अनंगपल को मदद की थी १०६४ में उनके साथ उज्जैन ग्वालियर कनोज अजमेर के राजा भी मदद् को आये थे)
१५५.जाम संधभड़ सवंत(११२-११८२)
(दो पुत्र हुवे जाम जाड़ो और वेरजि)
१५६ जाम जाड़ो जी सवंत(११८२-१२०३)
(इनके वंसज जाडेजा कहलाये इनको पुत्र न होंने से अपने भतीजे को गदी पर बिठाया बादमे उनको पुत्र हुवा जिसका नाम धयोजि था)
जाम लाखो जाडेजा सवंत (१२०३-१२३१)
(धायोजी का पक्ष ज्यादा मजबूत होने से और झगडा होने से जाम लाखों अपने भाई के साथ कच्छ की और आ बसे और अलग अलग राजाओ को हराकर कचछ में सत्ता जमायी उधर सिंध में धयोजी निर्वंश गुजर गए)
१५८•जाम रायघनजी सावंत(१२३१-१२७१)
(इनके समय में जाडेजा काफी बलवान थे कन्नौज के राजा जयचंद ने संयोगिता का स्वमवर रखा था जिसमे जाम रायघन भी गये थे ये हिंदुस्तान का आखरी राजसूय यज्ञ था इन्होंने पृथ्वीराज को ५ हजार का सैन्य मदद को भेजा था और अपने एक पुत्र होथीजी को भी.इनके ४ पुत्र हुवे जाम गजनजी(बारा की जागीर दी),देदोजी( कंथकोट अंजार वागड़ वगेरा दिया)होथीजी(गजोड़ की जागीर दी)और आठो जी(जिनसे कछ भुज की साख चली और राज इनको दिया)..बड़े को गदी न देने से ये झगडा १२ पीढ़ी तक चला...
१५९ जाम गजनजी सवंत( १२७१-१३०१)
बारा की गद्दी पर राज किया और उनके चाचा के अंदर)
१६०जाम हालोजी सवंत (१३०१-१३३१)
(इनके नाम से कुछ का कुछ प्रदेश हलार जाना जाता ह उनके वंसज जाम रावल ने भी हलार बसाया काठियावाड़ में)
१६१ जाम रायघन-२ से 
१७०.जाम श्री रावल जाम सवंत(१५६१-१६१८)
(यादवकुल नरेश अजेय राजा ने नवानगर(जाम नगर)बसाया और काफी युद्ध लड़े और काठियावाड़ में अपनी सत्ता जमायी मिठोई का महान युद्ध जीत कर काठियावाड़ के सभी राजाओ को हराया,
अश्व के दातार छोटे भाई हरध्रोल जी से ध्रोल राज्य की साखा चली )
१७१.जाम श्री विभाजी सवंत (१६१८-१६२५)
इन्होने महान राजवी जाम सत्रसल उर्फ़ सता जी को गद्दी और दूसरे बेटे भानजी को कलावड दिया और उनसे खरेडी और वीरपुर का राजवंश चला
)
१७२--जाम श्री सत्रासाल उर्फ सत्ता जी सवंत (१६२५-१६६४)
इनके नेत्रत्व में जाडेजा राजपूतों ने सबसे महान युद्ध लड़ें.मजेवाडी,तमाचन,और भूचर मोरी के युधों में जाडेजा राजपूतों ने अपने से कहीं बड़ी मुगल सेनाओं को जमकर टक्कर दी और उन्हें भाग जाने को मजबूर कर दिया...
(भूचर मोरी का युद्ध सौराष्ट्र के इतिहास का सबसे बड़ा युद्ध शरनागत रक्षा के लिए राजपूत धर्म का उदाहरन जामनगर में १४०००मंदिर निर्माण छोटी काशी बनाया.
जाम जैसाजी को गद्दी बाकि से राजकोट गोंदल का का राजवंश चला)


जाडेजा शाषित पूर्व राज्य व ठिकाने=================


1.कच्छ(९२३ गांव) १७ बंदूको की सलामी 
२.मोरवी(१४१ गांव) ११ बंदूको की सलामी तालूका-१
मालिया(२४ गांव ) (मोरवी के द्वारा) सज्जनपुर (७गांव ) मोरवी द्वारा 
जागीर - रोहा ,कोठारिया, लाकडीया, विजांन,,मानजल,तेरा आदि मिलाकर १९ जागीर....
नावानगर (हालार) शासित राज्य
१. नवानगर (७४१ गांव) १५ बंदूको की सलामी 
२. ध्रोल(७१ गांव) ११ बंदूको की सलामी
३. राजकोट ( ६४ गांव) ९ बंदूको की सलामी 
४. गोंदल (१२७ गांव ) ११ बंदूको की सलामी राजकोट द्वारा
५. खरेडी वीरपुर(१३ गांव) नावानगर के द्वारा
६. कोटडा सांगानी(२० गांव) गोंडला के द्वारा 
७. खिरासारा(१२ गांव ) ध्रोल द्वारा
८. जालीया देवानी(१०. गांव ) ध्रोल द्वारा
__________________तालूका_____________________________
१. गढका (७ गांव ) राजकोट द्वारा
२.गवरीदड(५ गांव) राजकोट द्वारा
३.पाल (५गांव ) राजकोट द्वारा
४.शापर(४गांव) राजकोट द्वारा
५.लोधिका सीनियर(५गांव) राजकोट द्वारा
६.लोधिका जूनियर (५गांव) राजकोट द्वारा
७.कोठारिया(१०गांव ) राजकोट द्वारा
८.मेंगनी(८गांव) गोंडला द्वारा
९.भाडवा(४गांव) गोंडला द्वारा
१०.राजपरा(९गाँव)गोंडल द्वारा
तालूकदारी(शेयरहोल्डर)
१. ध्र्रफा(२५गांव) ९ तालूकदार से ज्यादा
२.सतोदड वावडी(६गांव)
३.देरी मूलैला(५गांव)
४.शीशाग चाँदली (४ गांव) आदी
कूछ ३३ गाँव पालनपुर के अन्दर
=========मिठोई,मजे वाड़ी, तमाचन व भूचर मोरी के प्रसिद्द युद्ध=========
सौराष्ट्र के इतिहास के कई सबसे बड़े युद्ध भी जाडेजा वंश के नेतृत्व में लड़े गए।मिठोई.मजेवाड़ी,तमाचन, भूचर मोरी के युद्ध में जाडेजा वीरों ने डट कर विदेशियों,अन्य शक्तिओं का मुकाबला किया। ये युद्ध क्षत्रियो की वीरता व रण कौशल का उत्तम उद्धारण है जो कभी भुलाये नहीं जाने चाहिए। इन दोनों युद्धों के बारे में अलग से विवरण दिया जाएगा....


सन्दर्भ---
1-यदुवंश प्रकाश और सौराष्ट्र का इतिहास
2-http://rajputanasoch-kshatriyaitihas.blogspot.in/2015/08/history-of-jadeja-rajputs.html

पुरु वंश और महान राजपूत यौद्धा पोरस की विश्वविजयी सिकन्दर पर विजय( PURU-PORAS, THE GREAT RAJPUT WARRIOR WHO DEFEATED ALEXANDER THE GREAT)



मित्रों आज हम आपको प्राचीन चंद्रवंशी क्षत्रिय "पुरु वंश,इसकी शाखा हरिद्वार क्षत्रिय" के बारे में जानकारी देंगे और पुरुवंशी राजपूत राजा पोरस द्वारा विश्वविजेता सिकंदर को दी गई करारी पराजय के बारे में विस्तार से जानकारी देंगे..........
===========================

पुरु वंश का परिचय और गोत्र प्रवर----
चंद्रवंशी महाराजा ययाति के पुत्र पुरु के वंशज पुरु,पौर,पौरववंशी वंशी क्षत्रिय कहलाते हैं,इस वंश के महाराजा मतिनार सूर्यवंशी सम्राट मान्धाता के नाना थे,महाराजा पुरु से एक शाखा कुरु वंश की चली,इनसे चन्द्रवंश की अन्य शाखाएँ भी चली,एक शाखा बाद तक पुरु या पौरव वंशी कहलाती रही...
गोत्र--भारद्वाज
प्रवर तीन--भारद्वाज,ब्रह्स्पतय,अंगिरस
वेद--यजुर्वेद
शाखा--वाजसनेयी
नदी--महेंद्र तनया(सतलुज)
वृक्ष--वट
छत्र--मणिक मुक्त स्वर्ण छत्र
ध्वजा--लाल झंडे पर चंद्रमा का चिन्ह
शस्त्र--खडग
परम्परा--विजयादशमी को खडग पूजन होता है
शाखाएँ--हरिद्वार क्षत्रिय राजपूत,कटोच राजपूत,पुरी(खत्री)
गद्दी एवं राज्य--प्रतिष्ठानपुर,पंजाब आदि 

वर्तमान निवास--पाकिस्तान,पंजाब,आजमगढ़ एवं बहुत कम संख्या में बुलंदशहर,मेरठ में भी मिलते हैं,पंजाब और यूपी में कहीं कहीं मिलने वाले भारद्वाज राजपूत भी संभवत: पुरु अथवा पौरववंशी राजपूत ही हैं.

प्रसिद्ध पुरु अथवा पौरवंशी--विश्वविजेता यवन सिकन्दर को हराने वाले वीर पुरुवंशी राजा परमानन्द अथवा पुरुषोत्तम
पुरुवंश की शाखा हरिद्वार क्षत्रिय---------
गोत्र--भार्गव,प्रवर तीन--भार्गव,निलोहित,रोहित
यह पुरु वंश की उपशाखा है,पृथ्वीराज चौहान के समय इस वंश के आदि पुरुष राव हंसराम पंजाब से अपने परिवार के साथ हरिद्वार आकर बसे थे,उस समय यहाँ राजा चन्द्रपुंडीर पृथ्वीराज चौहान के सामंत के रूप में शासन कर रहे थे,इन्होने राव हंसराम को जागीर प्रदान की और हरिद्वार में पुरु वंश की शाखा का विस्तार होने लगा,बाद में इस इलाके में तुर्कों का दबाव होने के कारण पुरुवंशी क्षत्रिय यहाँ से पलायन कर पूर्वी क्षेत्र में चले गए और आजकल यूपी के आजमगढ़ के आसपास मिलते हैं,हरिद्वार से आने के कारण इन्हें हरिद्वार क्षत्रिय राजपूत वंश कहा जाने लगा.....
पाकिस्तान के पंजाब क्षेत्र में कई मुस्लिम राजपूत वंश जो खुद को चन्द्रवंशी बताते हैं उन वंशो का अस्तित्व भारत के हिन्दू चंद्रवंशी राजपूतो में नहीं मिलता है,न ही अलग से 36 वंशो की किसी भी सूची में इनका नाम मिलता है.चूंकि सिकन्दर के हमले के समय पुरुवंश का शासन पंजाब और भारत के सीमावर्ती क्षेत्र में था इसलिए हो सकता है ये पुरुवंशी क्षत्रियों के ही वंशज हों.....
====================================
यूनानी विश्वविजेता सिकन्दर(Alexander) का भारत पर आक्रमण(327 ईसा पूर्व) एवं पुरुवंशी राजा पोरस द्वारा उसकी पराजय----------
सिकन्दर(Alexander) का परिचय--------
प्राचीन काल में भारतीय आर्यों की एक शाखा एशिया पार कर आज के यूरोप,यूनान,रोम में बस गई थी,पुराणों और अन्य भारतीय ग्रंथो में यवनों का परिचय व्रात्य क्षत्रियों के रूप में होता है जिससे यवन प्राचीन आर्यों की शाखा सिद्ध होती है.
सिकन्दर(Alexander) यूनान के उत्तर में स्थित मकदूनिया(mecedoniya) के बादशाह फिलिप के पुत्र थे.मात्र बीस वर्ष की आयु में सिकन्दर बादशाह बन गए,प्राचीन काल से ईरान और यूनान के बीच शत्रुता चली आ रही थी,सिकन्दर(Alexander) ने विश्वविजेता बनने का प्रण लिया,और बड़ी सेना के साथ अपनी विजय यात्रा प्रारम्भ कर दी,
उस समय यूरोप में यूनान,रोम को छोडकर शेष जगह सभ्यता न के बराबर थी,और ज्ञात प्राचीन सभ्यताएँ एशिया महाद्वीप,मिस्र, में ही स्थित थी,इसलिए सिकन्दर(Alexander) ने सेना लेकर पूर्व का रूख किया,थीव्स,मिस्र इराक,मध्य एशिया को जीतता हुआ ईरान पहुंचा जहाँ क्षर्याश का उतराधिकारी दारा शासन कर रहा था,उसने दारा को हराकर उसके महल को आग लगा दी,और इस प्रकार क्षर्याश द्वारा एथेंस को जलाए जाने का बदला लिया.
इसके बाद वो आगे बढकर हिरात,काबुल,समरकंद,को जीतता हुआ सिंध नदी की उत्तरी घाटी तक पहुँच गया.
जब सिकन्दर ने सिन्धु नदी पार किया तो भारत में उत्तरी क्षेत्र में तीन राज्य थे-झेलम नदी के चारों ओर राजा अम्भि का शासन था जिसकी राजधानी तक्षशिला थी..पौरस का राज्य चेनाब नदी से लगे हुए क्षेत्रों पर था.तीसरा राज्य अभिसार था जो कश्मीरी क्षेत्र में था.

पुरु अथवा पौरस का परिचय-----
यूनान के इतिहास लेखक सिकन्दर से युद्ध करने वाले भारतीय राजा का नाम अपनी भाषा पोरस अथवा पुरु बताते हैं,वस्तुत: यह उसका नाम नहीं बल्कि पुरुवंश का परिचायक है,कटोच इतिहास में इस वीर राजा का नाम परमानन्द कटोच बताया जाता है,तथा खत्री जाति के जानकार इसका नाम पुरुषोत्तम खुखेरीयान बताते हैं,तथा इनके वंशज खत्रियो में पुरी कहलाते बताए जाते हैं,

हम बता ही चुके हैं कि कटोच राजपूत भी अत्यंत प्राचीन चंद्रवंशी क्षत्रिय हैं,संभवत कटोच भी चंद्रवंशी पुरु के वंशज हो सकते हैं,उस समय सम्भवत: खत्री जाति क्षत्रियों से प्रथक नहीं हुई थी,तो संभव है कि पुरु वंशी राजा परमानन्द अथवा पुरुषोत्तम आज के पुरुवंशी (पौरववंशी) राजपूतो,कटोच राजपूत और पुरी खत्रीयों के साझे पूर्वज हों......
पुरु वंशी राजा पोरस(यूनानी इतिहास लेखको द्वारा दिया गया नाम) का राज्य चेनाब नदी से लगे हुए क्षेत्रों पर था.....

पोरस और सिकन्दर का युद्ध--------

जब सिकन्दर ने सिन्धु नदी पार किया तो भारत में उत्तरी क्षेत्र में तीन राज्य थे-झेलम नदी के चारों ओर राजा अम्भि का शासन था जिसकी राजधानी तक्षशिला थी..पौरस का राज्य चेनाब नदी से लगे हुए क्षेत्रों पर था.तीसरा राज्य अभिसार था जो कश्मीरी क्षेत्र में था.

अम्भि(यह भी संभवत राजा का नाम न होकर उसके वंश का नाम था जिसको आज के आभीर या अहीर जाति माना जा सकता है) का पौरस से पुराना बैर था इसलिए सिकन्दर के आगमण से अम्भि खुश हो गया और अपनी शत्रुता निकालने का उपयुक्त अवसर समझा..अभिसार के लोग तटस्थ रह गए..इस तरह पौरस ने अकेले ही सिकन्दर तथा अम्भि की मिली-जुली सेना का सामना किया..

"प्लूटार्च" के अनुसार सिकन्दर की बीस हजार पैदल सैनिक तथा पन्द्रह हजार अश्व सैनिक पौरस की युद्ध क्षेत्र में एकत्र की गई सेना से बहुत ही अधिक थी..सिकन्दर की सहायता फारसी सैनिकों ने भी की थी..कहा जाता है कि इस युद्ध के शुरु होते ही पौरस ने महाविनाश का आदेश दे दिया उसके बाद पौरस के सैनिकों ने तथा हाथियों ने जो विनाश मचाना शुरु किया कि सिकन्दर तथा उसके सैनिकों के सर पर चढ़े विश्वविजेता के भूत को उतार कर रख दिया..

-पोरस के हाथियों द्वारा यूनानी सैनिकों में उत्पन्न आतंक का वर्णन कर्टियस ने इस तरह से किया है-"इनकी तुर्यवादक ध्वनि से होने वाली भीषण चीत्कार न केवल घोड़ों को भयातुर कर देती थी जिससे वे बिगड़कर भाग उठते थे अपितु घुड़सवारों के हृदय भी दहला देती थी..इन पशुओं ने ऐसी भगदड़ मचायी कि अनेक विजयों के ये शिरोमणि अब ऐसे स्थानों की खोज में लग गए जहाँ इनको शरण मिल सके.उन पशुओं ने कईयों को अपने पैरों तले रौंद डाला और सबसे हृदयविदारक दृश्य वो होता था जब ये स्थूल-चर्म पशु अपनी सूँड़ से यूनानी सैनिक को पकड़ लेता था,उसको अपने उपर वायु-मण्डल में हिलाता था और उस सैनिक को अपने आरोही के हाथों सौंप देता था जो तुरन्त उसका सर धड़ से अलग कर देता था.इन पशुओं ने घोर आतंक उत्पन्न कर दिया था".....
इसी तरह का वर्णन "डियोडरस" ने भी किया है --विशाल हाथियों में अपार बल था और वे अत्यन्त लाभकारी सिद्ध हुए..उन्होंने अपने पैरों तले बहुत सारे सैनिकों की हड्डियाँ-पसलियाँ चूर-चूर कर दी.हाथी इन सैनिकों को अपनी सूँड़ों से पकड़ लेते थे और जमीन पर जोर से पटक देते थे..अपने विकराल गज-दन्तों से सैनिकों को गोद-गोद कर मार डालते थे...
अब विचार करिए कि डियोडरस का ये कहना कि उन हाथियों में अपार बल था और वे अत्यन्त लाभकारी सिद्ध हुए ये क्या सिद्ध करता है..फिर "कर्टियस" का ये कहना कि इन पशुओं ने आतंक मचा दिया था ये क्या सिद्ध करता है...?

एक और विद्वान ई.ए. डब्ल्यू. बैज का वर्णन देखिए----उनके अनुसार "झेलम के युद्ध में सिकन्दर की अश्व-सेना का अधिकांश भाग मारा गया था.सिकन्दर ने अनुभव कर लिया कि यदि अब लड़ाई जारी रखूँगा तो पूर्ण रुप से अपना नाश कर लूँगा.अतः सिकन्दर ने पोरस से शांति की प्रार्थना की -"श्रीमान पोरस मैंने आपकी वीरता और सामर्थ्य स्वीकार कर ली है..मैं नहीं चाहता कि मेरे सारे सैनिक अकाल ही काल के गाल में समा जाय.मैं इनका अपराधी हूँ,....और भारतीय परम्परा के अनुसार ही पोरस ने शरणागत शत्रु का वध नहीं किया"".----
ये बातें किसी भारतीय द्वारा नहीं बल्कि एक विदेशी द्वारा कही गई है..

इसके बाद सिकन्दर को पोरस ने उत्तर मार्ग से जाने की अनुमति नहीं दी.विवश होकर सिकन्दर को उस खूँखार जन-जाति के कबीले वाले रास्ते से जाना पड़ा,इस क्षेत्र में कठ क्षत्रिय जनजाति(संभवत आज के काठी क्षत्रिय),मालव,राष्ट्रिक(राठौड़),कम्बोज,दहियक(दहिया क्षत्रिय राजपूत),आदि ने भी सिकन्दर का डटकर सामना किया.
कठ क्षत्रियों का प्राचीन नगर संगल नष्ट हो गया लेकिन उन्होंने विश्वविजयी सिकन्दर को जमकर मार लगाईं,जिससे लड़ते लड़ते सिकन्दर इतना घायल हो गया कि अंत में उसे प्राण ही त्यागने पड़े.

इस विषय पर "प्लूटार्च" ने लिखा है कि मलावी और कठ नामक भारतीय जनजाति बहुत खूँखार थी..कठ यौद्धा लूनवीर बसिया के हाथों सिकन्दर के टुकड़े-टुकड़े होने वाले थे लेकिन तब तक प्यूसेस्तस और लिम्नेयस आगे आ गए.इसमें से एक तो मार ही डाला गया और दूसरा गम्भीर रुप से घायल हो गया...तब तक सिकन्दर के अंगरक्षक उसे सुरक्षित स्थान पर लेते गए..

स्पष्ट है कि पोरस के साथ युद्ध में तो इनलोगों का मनोबल टूट ही चुका था रहा सहा कसर इन कठ,मालव जैसी क्षत्रिय जातियों ने पूरी कर दी थी..अब इनलोगों के अंदर ये तो मनोबल नहीं ही बचा था कि किसी से युद्ध करे पर इतना भी मनोबल शेष ना रह गया था कि ये समुद्र मार्ग से लौटें...क्योंकि स्थल मार्ग के खतरे को देखते हुए सिकन्दर ने समुद्र मार्ग से जाने का सोचा और उसके अनुसंधान कार्य के लिए एक सैनिक टुकड़ी भेज भी दी पर उन लोगों में इतना भी उत्साह शेष ना रह गया था फलतः वे बलुचिस्तान के रास्ते ही वापस लौटे....
सिकन्दर जाते हुए सिल्युक्स सहित कुछ यूनानी गवर्नर यहाँ नियुक्त कर गया,किन्तु जल्दी ही एक ब्राह्मण चाणक्य के मार्गदर्शन में भारतवर्ष में एक महान क्षत्रिय राजपूत सम्राट का उदय हुआ वो थे 
"चन्द्रगुप्त मौर्य",जिन्होंने इन यूनानियों को जल्द ही परास्त कर भगा दिया....

इतिहासकारों द्वारा वीर पोरस और काठी क्षत्रियों के साथ किया गया अन्याय-------
अफसोस की ही बात है कि इस तरह के वर्णन होते हुए भी लोग यह दावा करते हैं कि सिकन्दर ने पौरस को पकड़ लिया गया और उसके सेना को शस्त्र त्याग करने पड़े...
जितना बड़ा अन्याय और धोखा इतिहासकारों ने महान पौरस के साथ किया है उतना बड़ा अन्याय इतिहास में शायद ही किसी के साथ हुआ होगा।एक महान नीतिज्ञ,दूरदर्शी,शक्तिशाली वीर विजयी राजा को निर्बल और पराजित राजा बना दिया गया....
यही नहीं सिकन्दर को धुल चटाने वाले महान क्षत्रिय यौद्धा काठी जाति का नाम इतिहास से मिटा ही दिया गया,और आज यह काठी क्षत्रिय सौराष्ट्र में निवास करते हैं क्योंकि सिकन्दर से युद्ध करते हुए इन्हें भी बहुत नुक्सान हुआ था और इन्हें अपना मूल स्थान छोडकर सौराष्ट्र कच्छ की और आना पड़ा,

चूँकि सिकन्दर पूरे यूनान,मिस्र,ईरान,ईराक,बैक्ट्रिया आदि को जीतते हुए आ रहा था इसलिए भारत में उसके पराजय और अपमान को यूनानी इतिहासकार सह नहीं सके और अपने आपको दिलासा देने के लिए अपनी एक मन-गढंत कहानी बनाकर उस इतिहास को लिख दिए जो वो लिखना चाह रहे थे.... भारतीय इतिहासकारों का दुर्भाग्य देखिये कि उन्होंने भी बिना सोचे-समझे उसी मनगडंथ यूनानी इतिहास को नकल कर लिख दिया...

कुछ हिम्मत ग्रीक के फिल्म-निर्माता ओलिवर स्टोन ने दिखाई है जो उन्होंने कुछ हद तक सिकन्दर की हार को स्वीकार किया है..फिल्म में दिखाया गया है कि एक तीर सिकन्दर का सीना भेद देती है और इससे पहले कि वो शत्रु के हत्थे चढ़ता उससे पहले उसके सहयोगी उसे ले भागते हैं.इस फिल्म में ये भी कहा गया है कि ये उसके जीवन की सबसे भयानक त्रासदी थी और भारतीयों ने उसे तथा उसकी सेना को पीछे लौटने के लिए विवश कर दिया..चूँकि उस फिल्म का नायक सिकन्दर है इसलिए उसकी इतनी सी भी हार दिखाई गई है तो ये बहुत है,नहीं तो इससे ज्यादा सच दिखाने पर लोग उस फिल्म को ही पसन्द नहीं करते..वैसे कोई भी फिल्मकार अपने नायक की हार को नहीं दिखाता है.......

पोरस की महानता का एक और उदाहरण देखिए--जब सिकन्दर ने पोरस के राज्य पर आक्रमण किया तो पोरस ने सिकन्दर को अकेले-अकेले यानि द्वन्द युद्ध का निमंत्रण भेजा ताकि अनावश्यक नरसंहार ना हो और द्वन्द युद्ध के जरिए ही निर्णय हो जाय पर इस वीरतापूर्ण निमंत्रण को सिकन्दर ने स्वीकार नहीं किया... 

अब देखिए कि भारतीय बच्चे क्या पढ़ते हैं इतिहास में-------
"सिकन्दर ने पौरस को बंदी बना लिया था..उसके बाद जब सिकन्दर ने उससे पूछा कि उसके साथ कैसा व्यवहार किया जाय तो पौरस ने कहा कि उसके साथ वही किया जाय जो एक राजा के साथ किया जाता है अर्थात मृत्यु-दण्ड..सिकन्दर इस बात से इतना अधिक प्रभावित हो गया कि उसने वो कार्य कर दिया जो अपने जीवन भर में उसने कभी नहीं किए थे..उसने अपने जीवन के एक मात्र ध्येय,अपना सबसे बड़ा सपना विश्व-विजेता बनने का सपना तोड़ दिया और पौरस को पुरस्कार-स्वरुप अपने जीते हुए कुछ राज्य तथा धन-सम्पत्ति प्रदान किए..तथा वापस लौटने का निश्चय किया और लौटने के क्रम में ही उसकी मृत्यु हो गई..!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!
ये कितना बड़ा तमाचा है उन भारतीय इतिहासकारों के मुँह पर कि खुद विदेशी ही ऐसी फिल्म बनाकर सिकंदर की हार को स्वीकार कर रहे रहे हैं और हम अपने ही वीरों का इसतरह अपमान कर रहे हैं.!!
अब निर्णय करिए कि पोरस तथा सिकन्दर में विश्व-विजेता कौन था..? दोनों में वीर कौन था..?दोनों में महान कौन था..?
भारतीय इतिहासकारों ने तो पोरस को इतिहास में स्थान देने योग्य समझा ही नहीं है.इतिहास में एक-दो जगह इनका नाम आ भी गया तो बस सिकन्दर के सामने बंदी बनाए गए एक निर्बल निरीह राजा के रुप में.....
जो राष्ट्र वीरों का इस तरह अपमान करेगा क्या वो राष्ट्र ज्यादा दिन तक टिक पाएगा????????
आप सबसे जवाब की अपेक्षा है.....
====================================
सन्दर्भ सूची-----
1-ईश्वर सिंह मुंढाड कृत राजपूत वंशावली पृष्ठ संख्या 132
2-पंडित जवाहर लाल नेहरु कृत विश्व इतिहास की झलक पृष्ठ संख्या 37-40
3-श्री सुरेन्द्र भाटी जी
4-http://rajputanasoch-kshatriyaitihas.blogspot.in/2015/08/puru-poras-great-rajput-warrior-who.html